Advertisement

मुस्लिम मोहल्लों को आज भी मिनी पाकिस्तान समझा जाता है

वीडियो: अक्सर मुसलमानों के हित की बात करने वाले या उनका साथ देने वाले हर व्यक्ति को कह दिया जाता है कि तुम भी पाकिस्तान चले जाओ और साथ में इन बचे-खुचे मुसलमानों को भी ले जाओ, क्योंकि पाकिस्तान इन्होंने ही तो बनवाया था. कुछ ऐसी ही बातें कहती है ये नई किताब ‘कॉन्टेस्टेड होमलैंड्सः पॉलीटिक्स ऑफ स्पेस एंड आइडेंटिटी’ कि मुस्लिम मोहल्लों को आज भी ‘मिनी पाकिस्तान’ समझा जाता है. इसकी लेखक नाज़िमा परवीन ने किस अनुभव के चलते ये बातें कहीं हैं. हमने इस वीडियो में उनसे जानने की कोशिश की.



source http://thewirehindi.com/180695/book-review-contested-homelands-politics-of-space-and-identity-india-muslims-society/

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ