Advertisement

क्यों लगाया जाता है माथे पर तिलक

नई दिल्ली (लोकसत्य)। ज्यादातर हिन्दू धार्मिक संस्कारों में माथे पर तिलक लगाया जाता है. किसी तरह की पूजा-पाठ हो, कोई धार्मिक कार्य हो, कोई शुभ या मांगलिक कार्य हो, कहीं यात्रा पर निकलना हो, या फिर किसी कार्य में सफलता पाने की इच्छा हो- इन सभी में व्यक्ति के माथे पर तिलक लगाया जाता है। यह तिलक रोली, चंदन, सिंदूर, केसर या फिर हल्दी से भी लगाया जा सकता है। मान्यता है कि तिलक लगाने से समाज में मस्तिष्क हमेशा गर्व से ऊंचा होता है। लेकिन आखिर तिलक लगाने का कारण क्या है, इसे माथे के बिलकुल बीचों बीच क्यों लगाया जाता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि माथे पर तिलक लगाने का कारण क्या है।

क्या है कारण-हमारे शरीर में ऊर्जा के 7 छोटे-छोटे केंद्र हैं जिन्हें चक्र कहा जाता है और ये चक्र अपार शक्ति के भंडार हैं तिलक या टीके को माथे के बीचों बीच लगाने के पीछे कारण ये है कि वहां पर आज्ञा चक्र होता है। हमारे शरीर के 7 चक्रों में से यह सबसे महत्वपूर्ण स्थान है। आज्ञा चक्र स्पष्टता और बुद्धि का केन्द्र है। यहां पर शरीर की 3 प्रमुख नाड़ियां- इडा (चंद्र नाड़ी), पिंगला (सूर्य नाड़ी) और सुषुम्ना (केन्द्रीय, मध्य नाड़ी) आकर मिलती हैं। आज्ञाचक्र को गुरुचक्र भी कहा जाता है क्योंकि यहीं से पूरे शरीर का संचालन होता है। यह हमारे शरीर का केंद्र स्थान है।

आज्ञा च्रक को हमारी चेतना का भी मुख्य स्थान माना जाता है और इसे मन का घर भी कहते हैं. योग (Yoga) करने के दौरान ध्यान के समय इसी स्थान पर मन को एकाग्र किया जाता है. यही वजह है कि तिलक या टीका हमेशा आज्ञा च्रक पर लगाया जाता है।

कैसे लगाएं तिलक -तिलक लगाने से एक तो स्वभाव में सुधार आता हैं व देखने वाले पर सात्विक प्रभाव पड़ता हैं। तिलक जिस भी पदार्थ का लगाया जाता हैं उस पदार्थ की ज़रूरत अगर शरीर को होती हैं तो वह भी पूर्ण हो जाती हैं। तिलक किसी खास प्रयोजन के लिए भी लगाये जाते हैं जैसे यदि मोक्षप्राप्ती करनी हो तो तिलक अंगूठे से, शत्रु नाश करना हो तो तर्जनी से, धनप्राप्ति हेतु मध्यमा से तथा शान्ति प्राप्ति हेतु अनामिका से लगाया जाता हैं।

The post क्यों लगाया जाता है माथे पर तिलक appeared first on Hindi News: हिन्दी न्यूज़, Latest News in Hindi, Breaking Hindi News, लेटेस्ट हिंदी न्यूज़, ब्रेकिंग न्यूज़ | Loksatya.



source https://www.loksatya.com/spirituality/why-is-tilak-applied-on-the-forehead/

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ