जानिए घर में कहाँ रखना चाहिए पानी

नई दिल्ली (लोकसत्य)। यह सच है की जल ही जीवन है उसके बिना हम जीवित नहीं रह सकते। लेकिन क्या आप जानते है की वास्तु मे जल के लिए भी सही स्थान बताया गया है यदि यह गलत स्थान पर होगा तो बहुत हानि पहुंचा सकता है। वास्तु शास्त्र में दिशाओं को बहुत अधिक महत्व दिया गया है. वास्तु में दिशाओं को ध्यान में रखकर ही भवन निर्माण होता है। दिशाओं के आधार पर ही घर का इंटीरियर डेकोरेशन किया जाता है। जल हमारे जीवन के लिए सबसे महत्वपूर्ण है। इसलिए घर में जल स्थान कहां हो यह भी एक महत्वपूर्ण प्रश्न है। घर में पानी सही स्थान पर और सही दिशा में रखने से परिवार के सदस्यों का स्वास्थ्य अनुकूल रहता है और सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है।

सही दिशा देगी लाभ
वास्तुशास्त्र के मुताबिक जल का शुभ स्थान ईशान कोण को माना गया है. पानी का भण्डारण अथवा भूमिगत टैंक या बोरिंग पूर्व, उत्तर या पूर्वोत्तर दिशा में होनी चाहिए। पानी का बर्तन रसोई के उत्तर-पूर्व या पूर्व में भरकर रखें।

दक्षिण-पूर्व, उत्तर-पश्चिम या दक्षिण-पश्चिम कोण में कुआं अथवा ट्यूबवेल नहीं होने चाहिए. इसके लिए उत्तर-पूर्व कोण का स्थान सही होता है। ओवर हेड टैंक उत्तर और वायव्य कोण के बीच होना चाहिए। नहाने का कमरा पूर्व दिशा में शुभ होता है। ध्यान रखें, घर के किसी नल से पानी नहीं रिसना चाहिए अन्यथा भुखमरी की स्थिति पैदा हो सकती है।

गलत दिशा होगी हानिकारक
पश्चिम दिशा में जल स्रोत होने से घर के पुरुष रोगी होते हैं उनको पेट एवं इंद्रिय संबंधित पीड़ा हो सकती है।उत्तर पश्चिम दिशा में इसके होने से अत्यधिक शत्रुओं का सामना करना पड़ता है इसी प्रकार दक्षिण पूर्व दिशा में जल स्रोत पुत्रों से विवाद कराता है एवं दक्षिण दिशा में जल स्रोत मृत्यु का भय उत्पंन करता है। घर के मध्य में भी कभी जल स्रोत नहीं होना चाहिए क्यों कि यह परिवार में विघटन,पूर्ण नाश एवं भारी धन हानि का कारण बन सकता है।

The post जानिए घर में कहाँ रखना चाहिए पानी appeared first on Hindi News: हिन्दी न्यूज़, Latest News in Hindi, Breaking Hindi News, लेटेस्ट हिंदी न्यूज़, ब्रेकिंग न्यूज़ | Loksatya.



source https://www.loksatya.com/spirituality/know-where-water-should-be-kept-in-the-house/

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ