सूर्य ग्रहण से कैसी होगी ग्रहो की स्थिति, पढ़ें पूरी खबर

नई दिल्ली (लोकसत्य)। वर्ष 2021 का पहला सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है. पंचांग के अनुसार 10 जून, गुरुवार सूर्य पर ग्रहण लग रहा है। इस सूर्य ग्रहण को उत्तर-पूर्व अमेरिका, यूरोप, उत्तरी एशिया और उत्तरी अटलांटिक महासागर में देखा जाएगा, लेकिन इसका प्रभाव भारत पर नहीं होगा। इस सूर्य ग्रहण को खंडग्रास, रिंग फिंगर और वलयाकार सूर्य ग्रहण भी कहा जा रहा है।

ग्रहों की स्थिति
मंगल भी राशि परिवर्तन कर रहे हैं जो अपनी वर्तमान राशि बदलकर 2 जून को कर्क में आएंगे। जिससे ये अपने शत्रु ग्रह शनि के सामने होगा। इस तरह शनि और मंगल का अशुभ योग बनेगा। जिससे देश-दुनिया में तनाव, विवाद और झगड़े बढ़ेंगे। इस दौरान बुध भी बदलेंगे। बुध की टेढ़ी चाल के कारण 3 जून को मिथुन राशि में रहेंगे। इस कारण देश में आर्थिक गतिविधियां बढ़ेंगी और आयात-निर्यात से जुड़े बड़े मामले सामने आएंगे। 15 जून को सूर्य भी मिथुन राशि में प्रवेश करेंगे।

इस दिन मिथुन संक्रांति पर्व रहेगा। इसके बाद अगले एक महीने तक सूर्य और शनि आपस में छठी और आठवीं राशि में रहेंगे। इस स्थिति को षडाष्टक योग कहा जाता है। ये एक अशुभ योग है। जो अराजकता पैदा करने वाला है। 20 जून गुरु ग्रह के कुंभ राशि में वक्री होने से सभी राशियों पर प्रभाव पड़ेगा। गुरु के राशि बदलने से खास प्रभाव पड़ेंगे। देव गुरु बृहस्पति धन, विवाह, ज्ञान और सत्कर्म के कारक:देव गुरु बृहस्पति को सर्वाधिक शुभ एवं शीघ्रफलदाई ग्रह माना गया है। यह धनु व मीन राशि के स्वामी है। गुरू ग्रह के कारण ही जातक का विवाह, धनलाभ और ज्ञान मिलता है।गुरु उल्टी चाल से चलेंगे। गुरु के राशि परिवर्तन से स्वास्थ्य के लिहाज से लोगों को और भी सावधान रहना होगा।

सूर्य ग्रहण का समय
सूर्य ग्रहण 10 जून को दोपहर करीब 1 बजकर 42 मिनट पर आरंभ होगा। यह ग्रहण शाम को 6 बजकर 41 मिनट पर समाप्त होगा। इसकी अवधि लगभग 5 घंटे की रहेगी।

The post सूर्य ग्रहण से कैसी होगी ग्रहो की स्थिति, पढ़ें पूरी खबर appeared first on Hindi News: हिन्दी न्यूज़, Latest News in Hindi, Breaking Hindi News, लेटेस्ट हिंदी न्यूज़, ब्रेकिंग न्यूज़ | Loksatya.



source https://www.loksatya.com/spirituality/how-will-the-position-of-planets-be-due-to-solar-eclipse-read-full-news/

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ