दो दशक के उच्चतम स्तर पर पहुंचा नकदी का चलन

भारतीय अर्थव्यवस्था में नकदी का चलन (करेंसी सर्कुलेशन) दो दशक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है। भारतीय रिजर्व बैंक के आंकड़े के अनुसार, मार्च, 2021 तक भारतीय अर्थव्यवस्था में नकदी का चलन बढ़कर 28.6 खबर पहुंच गया। यह पिछले साल के मुकाबले 16.8 फीसदी अधिक है। जानकारों का कहना है कि कोरोना महामारी की अनिश्चितता के कारण सर्तकता बरते हुए लोगों ने नकदी को प्राथमिकता दी है। इससे अर्थव्यवस्था में नकदी का चलन बढ़ा है।

दो दशक के उच्चतम स्तर पर पहुंचा नकदी का चलन


260 फीसदी का आया उछाल

रिपोर्ट के मुताबिक, भारत की जीडीपी के अनुपात में नकदी का चलन मार्च, 2021 तक बढ़कर 14.6 फीसदी पर पहुंच गया। वहीं, मार्च, 2020 तक यह अनुपात 12 फीसदी पर था। यानी पिछले साल के मुकाबले इसमें 260 फीसदी का उछाल आया है जो पहली बार हुआ है। ऐसा नोटबंदी के बाद भी देखने को नहीं मिला था। भारत की मौजूदा जीडीपी का साइज 195.9 खरब रुपये आंका जा रहा है।

साल 2010 के बाद सबसे बड़ा उछाल

नकदी का चलन में बढ़ोतरी पिछले वित्त वर्ष में देखी गई है वह 2010-11 के बाद का सबसे बड़ा उछाल है। उस समय 18.8 फीसदी की बढ़ोतरी एक साल में दर्ज की गई थी। हालांकि, नोटबंदी के बाद 2017-18 में 37 फीसदी की भी वृद्धि दर्ज की गई लेकिन वह असमान्य घटना थी।

नकदी पर निर्भरता बढ़ी

देश में कोविड-19 की दूसरी लहर के चलते पिछले दो माह में लोगों की नकदी पर निर्भरता में बढ़ोतरी हुई है। आरबीआई के आंकड़ों के मुताबिक, 9 अप्रैल को समाप्त पखवाड़े के दौरान नागरिकों के पास नकदी 30,191 करोड़ रुपये बढ़कर 27,87,941 करोड़ रुपये के नए स्तर पर पहुंच गई। 27 फरवरी से 9 अप्रैल के दौरान की 6 सप्ताह की अवधि में लोगों के पास नकदी 52,928 करोड़ रुपये बढ़ गई। इसकी वजह सरकार द्वारा फिर से लॉकडाउन लगाए जाने का डर है।

लोगों का नकद पर क्यों बढ़ा भरोसा

वित्तीय विशेषज्ञों का कहना है कि पिछल साल लॉकडाउन के दौरान भी लोगों ने ज्यादा नकदी जमा की थी। भारतीय समाज की अवधारणा को देखें तो जब भी संकट जैसी स्थिति पैदा हुई है, तब घरों में नकदी जमा करने की प्रवृत्ति रही। यह कारण है कि इस साल भी नकदी की मांग में बढ़ोतरी रही है क्योंकि कोरोना की दूसरी लहर बहुत ही घातक होती जा रही है।


New India Samachar › देश
18 अप्रैल 2021 ... Covid-19 की दूसरी लहर को लेकर बड़ी खबर, ज्‍यादा संक्रामक है मगर. लेखक: New India ... Related:देश में अब तक कोविड टीकों की 1.90 करोड़ खुराकें दी गयीं: स्वास्थ्य मंत्रालय · 7 years of 2 states ...
Hindi News: हिंदी समाचार, Latest News in Hindi, Live Breaking News | Patrika › ... › इंडिया समाचार
14 अप्रैल 2021 ... दूसरी लहर का कहर ऐसा बरपा है कि रोजाना नए मामले ( Corona New Cases ) नए आंकड़ों का रिकॉर्ड बना रहे हैं। कोविड-19 वायरस विकराल रूप लेता जा रहा है। पहले एक लाख का आंकड़ा पार ...
Hindi News: हिंदी समाचार, Latest News in Hindi, Live Breaking News | Patrika › ... › इंडिया समाचार
20 अप्रैल 2021 ... देश में कोरोना ( Coronavirus in india ) की दूसरी लहर का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। ... को छू रही है फिर चाहे वो नए केसों ( Corona New Cases ) की संख्या हो या फिर कोविड से मौत का आंकड़ा। ... Related:Covid-19 : स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन बोले - कोरोना की दूसरी लहर को रोकने के लिए ...
New India Samachar › बिज़नेस
20 अप्रैल 2021 ... देश में लगातार कोविड-19 संक्रमण के 2.5 लाख से अधिक मामले देश की आर्थिक रिकवरी के लिए चिंताजनक बन रहे हैं। नोमूरा का आर्थिक गतिविधियों के इंडेक्स नोमूरा इंडिया ...

www.nisamachar.com › बिज़नेस
1 दिन पहले ... देश में कोरोना की दूसरी लहर से भयावह स्थिति है हालांकि, दुनियाभर से मिल रही मदद के ... देश का शेयर बाजार कारोबारी सप्ताह के दूसरे दिन (27 अप्रैल, मंगलवार) मजबूती के साथ खुला। ... कोविड-19: अदालत की फटकार के बाद मतगणना के दौरान या बाद में विजय जुलूस पर पाबंदी.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ