भारत बनेगा खिलौनों का ग्लोबल विनिर्माण हब, ‘टॉयकाथॉन’ लांच

 अब भारत में ही नए और अनूठे प्रकार के खिलौनों के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार ने टॉयकाथॉन की शुरुआत की है। इस अभियान में छात्र, शिक्षक, विशेषज्ञ और स्टार्टअप से जुड़े लोग एक मंच पर आकर नए-नए प्रकार के खिलौने और ‘गेम’ बनाने को लेकर विचारों का आदान-प्रदान करेंगे। भारत में अभी 80 फीसदी खिलौने आयात होते हैं, ऐसे में खिलौना विनिर्माण के क्षेत्र में देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार देश में ही काम कर रहे उद्योगों को बढ़ावा दे रही है। इसके लिए आधा दर्जन मंत्रालयों को इस अभियान से जोड़ा गया है। इसके तहत 1

TOYCATHON 2021


अरब अमेरिकी डॉलर वाले खिलौना बाजार को जोड़ते हुए 33 करोड़ छात्रों को इस नए कौशल से जोड़ने का भी खाका तैयार किया गया है। टॉयकाथॉन के विजेताओं को सरकार 50 लाख रु. तक का पुरस्कार भी देगी। इसके नतीजे 23-25 फरवरी को आएंगे। 

Related Posts

टिप्पणी पोस्ट करें

Subscribe Our Newsletter